Bhabhi Ki Chut Ke Sath Gaand Chudai

हेलो दोस्तो, आप सभी का देसी कहानी में स्वागत है ये मेरी पहली चुदाई की कहानी है में रोज चुदाई की कहानी पड़ कर हिलाता हूँ। ये कोई कहानी नही सच्ची घटना है जो आज से 2 साल पहले मेरे साथ हुई।

तो शुरू करते है। मेरा नाम दिपेश है। में इंदौर में रहता हूं में 23 साल का हूँ, मेरा कद काठी ठीक ठाक है मेरे लन्ड का साइज 6.5इंच लंबा है। मेरे घर से थोड़े ही दूर मेरे भैया भाभी रहते है।

मेरी भाभी एक मस्त माल है जिसे देख कर बुड्ढे का लन्ड भी खड़ा हो जाये। उनका फिगर 32-30-34 होगा उनके बूब्स बहुत बड़े बड़े थे। उनकी गांड का तो जवाब ही नही था, मेरी उनसे खूब जमती थी। हम खूब हँसी मज़ाक करते थे।

मुझे उनके बूब्स घूरते हुवे उन्होंने कई बार पकड़ा था पर कभी कुछ कहा नही। मुझे उन्हें चोदने की बहुत इच्छा थी।पर उन्हें पतौ कैसे समझ नही आता था। मेरे भैया ज्यादातर ऑफिस में ही रहते थे बहुत कम छुटियाँ लेते थे।

एक बार की बात है में शाम को उनके घर गया था, हम लोग बात कर रहे थे तभी मेने मज़ाक में भाभी को कह दिया।

मेने कहा :- भाभी कभी हमे भी टेस्ट करवा दो रोज रोज भैया को खिलाते हो।

भाभी:- क्या टेस्ट करना है।

में :- जो तुम करवा दो

भाभी:- अच्छा देवर जी बताओ क्या खाना है आपको

मेने कहा खाना नही पीना है भाभी

भाभी:- क्या पीना है देवर जी

में:- दूध, आपके धुंद की बहुत तारीफ सुनी है ।

भाभी:- ठीक है रुको में अभी ला देती हूं।

में:- वो नही भाभी।

भाभी :- फिर क्या।

में:- आपके दूध।

मुझे लगा भाभी गुस्सा हो जाएगी पर वो धीरे से हस के बोली :- पागल हो तुम सच मे।

में जिद करने लगा कि भाभी पिला दो ना।

भाभी:- ये गलत है दीपू। में तुम्हारी भाभी हूँ ये नही हो सकता।

में:- कोई गलत नही है भाभी मुझे पता है भेया आपको टाइम नही दे पाते आप को भी जरूरत है।

भाभी:- अगर उन्हें पता चल गया तो मेरी जिंदगी बर्बाद हो जाएगी।

में :- आप उनको कुछ बोलोगे नही ओर में भी उन्हें नही बताऊंगा तो उन्हें कैसे पता चलेगा भाभी मुझ पर भरोसा रखो।

भाभी:- पर ये गलत है दीपू में उन्हें धोका नही दे सकती।

में:- सोचो भाभी अगर आपको किसी चीज़ की जरूरत है तो क्या आप भेया का इंतेजार करोगे के वो ला कर दे तभी लोगे आप खुद नही ले सकते क्या। ये धोका नही है भाभी वो आपकी जरूरत पूरी नही कर सकते इसलिए आप ये करोगे ओर में कोई गेर नही इस परिवार का सदस्य हूँ। (अब में भाभी को इमोशनल करने लगा था) शायद आप मुझे अपना मानते ही नही।

भाभी बोली :- ठीक है उदास मत हो दीपू सही वक्त आने दे बस।

मुझे उस रात नींद नही आई 3 बार हिलाया मेने भाभी का नाम लेकर।

कुछ दिन बाद भाभी का फोन आया के आ जाओ कुछ काम है। में जल्दी से भाभी के घर पहुचा क्या माल लग रही थी भाभी लाल रंग की मैक्सी में।

मेने कहा जी भाभी जी बताइये क्या काम है। यह कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है।

भाभी बोली ज्यादा भोले मत बनो देवर जी जैसे आपको पता ही नही के किस काम के लिए बुलाया है मेने।

तो मैने कहा देर किस बात की भाभी। भाभी मुस्कुरा दी। फिर हम बैडरूम में गये जाते ही मेने उनके सारे कपड़े उतार दिए ओर मेने भी उतार दिये

क्या मस्त चूत है उनकी में देखता ही रह गया तभी भाभी बोली बस देखोगे ही या कुछ करने का इरादा भी है। में भाभी को किस करने लगा कभी उनके होंठ पर कभी उनके बूब्स पर कभी उनकी चूत पर। हम पागलो की तरह एक दूसरे को किस कर रहे थे।

फिर हम 69 पोजीसन में आ गए उन्होंने मेरा लन्ड मुह में ले लिया और मस्त चूसे जा रही थी। में भी अपनी जीभ भाभी की चूत में डाल रहा था

मेंने बोला भाभी अब बर्दास्त नही होता।

भाभी पेर फेला के लेट गई मेने अपना लन्ड उनकी चूत पे सेट किया और एक जोरदार धक्का लगाया मेरा आधा लन्ड भाभी की चूत में। भाभी दर्द के मारे रो दि ओर बोली धीरे करो देवर जी मे आपकी ही हूँ अब।

मेने एक धक्का फिर दिया अबकी बार मेंरा पूरा लन्ड भाभी की चूत को चीरता हूँ अंदर चला गया भाभी चिक पड़ी।
में शांत रहा फिर धीरे धीरे धक्का लगाना स्टार्ट किया।

भाभी:- आह आहहहहह हहहह आहहहहहहहहहहहह उइ उइईईई आहहहहह हहहहहह आह ओ मा आह ओर जोर से करो आह मज़ा आ रा है ओह। फाड् दो आज मेरी चूत तहस नहस कर दो देवर जी मेरी..

में ओर जोश में आ गया 20 मिनट तक मे धक्के लगाता रहा। खूब चोदा भाभी को.. भाभी झड़ चुकी थी मेने भी अपना पानी।

भाभी की चूत में छोड़ दिया। हम लेते रहे भाभी मेरी बाहो में थी उन्होंने मेरे गाल पे किस किया और बोली थैंक्स देवर जी आपने आज मेरा सपना पूरा कर दिया।

मेने कहा मेरा एक सपना तो रह गया भाभी।

भाभी:- क्या सपना है मेरे भाभीचोद देवर।

में:- मुझे आपकी गांड मरना है भाभी।

भाभी मन करने लगी के नही देवर जी बहुत दर्द होगा पर मेरे कहने पर वो मान गई।

Comments

Scroll To Top